कोल्ड चेन एक विज्ञान है जुगाड़ नहीं", नीरज बंसल सीईओ, डीएचएल इंडिया स्मार्ट्रकिंग

मुंबई, महाराष्ट्र के बॉम्बे एक्जिबिशन सेंटर में 13 से 15 दिसंबर, 2018 तक रीड मंच इंडिया द्वारा आयोजित तीन दिवसीय मेगा ट्रेड प्रदर्शनी “इंडिया कोल्ड चेन शो 2018” ने भारत भर से हजारों कोल्ड चेन उद्योग के पेशेवरों और व्यापार आगंतुकों को आकर्षित किया।  इस वर्ष  इस अनोखी इवेंट ने कोल्ड चेन उद्योग की 210 से अधिक प्रमुख कंपनियों के प्रोडक्ट्स को दिखाया जिसमें  आइस  मेक रेफ्रिजरेशन, डीएचएल, महिंद्रा, ब्लू स्टार, गांधी ऑटोमेशन, आर्कटिक, प्लस, कोल्ड बॉक्स, इमर्सन, केली, होरमैन और हनीवेल आदि शामिल हैं। 
“इंडिया कोल्ड चेन शो 2018” जो कि कोल्ड चेन इंडस्ट्री पर भारत की सबसे बड़ी प्रदर्शनी है, ने भारत में उद्योग के हितधारकों के सामने आने वाली विभिन्न चुनौतियों का समाधान करने के लिए एक छत के नीचे नई तकनीक और अभिनव समाधान लाए हैं। प्रदर्शनी  में कुछ नए उत्पादों में आइस मेक रेफ्रिजरेशन का कोल्ड रूम और रेफ्रिजरेटेड कंटेनर, डीएचएल के उच्च तकनीक वाले स्मार्ट ट्रक, गोदरेज के फ्लोर केयर सॉल्यूशंस, गांधी ऑटोमेशन के एंट्रेंस ऑटोमेशन और लोडिंग बे इक्विप्मेंट्स, ब्लू स्टार के उपभोक्ता उत्पाद रेंज शामिल हैं।

आइस मेक रेफ्रिजरेशन लिमिटेड जो शीतलन समाधान उपकरण के अग्रणी निर्माता और आपूर्तिकर्ता में से एक हैं, के संयुक्त प्रबंध निदेशक श्री राजेंद्र पटेल  ने कहा कि “हम कोल्ड चेन सेक्टर पर मुंबई में इस मेगा इवेंट का हिस्सा बनकर बहुत खुश हैं। विभिन्न उद्योग क्षेत्रों में बड़ी संख्या में नवीन शीतलन और प्रशीतन समाधानों के निर्माण में आइस मेक सबसे आगे रहा है। हमारे पास कोल्ड रूम, कमर्शियल रेफ्रिजरेशन, और इंडस्ट्रियल रेफ्रिजरेशन एंड ट्रांसपोर्ट रेफ्रिजरेशन और नई जोड़ी गई अमोनिया रेफ्रिजरेशन जैसी चार श्रेणियों के तहत निर्मित 25 से अधिक रेफ्रिजरेशन सॉल्यूशन उत्पादों की पूरी श्रृंखला  है। कंपनी सोलर कोल्ड रूम भी बनाती है जिसे आंतरिक क्षेत्रों में किसानों की कोल्ड स्टोरेज आवश्यकता के लिए डिज़ाइन किया गया है जहाँ उचित भंडारण तापमान और पर्याप्त बुनियादी ढांचा उपलब्ध नहीं है। इन उत्पादों की एक श्रृंखला जैसे अत्यधिक कुशल कोल्ड रूम और रेफ्रिजरेटेड कंटेनर, जो हमारे प्रमुख उत्पाद हैं, प्रदर्शनी में प्रदर्शित किए गए थे ”

डीएचएल स्मारट्रैकिंग इंडिया के सीईओ श्री नीरज बंसल ने समवर्ती सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “भारत में 85% कोल्ड चेन लॉजिस्टिक और ट्रांसपोर्ट मार्केट अभी भी असंगठित और अविश्वसनीय है, क्योंकि प्रशिक्षित ड्राइवरों की कमी, प्रौद्योगिकी का  कम उपयोग और तापमान अनुपालन में छोटी-मोटी कमियां हैं। कोल्ड चेन लॉजिस्टिक सेक्टर में ज्यादा निवेश नहीं  किया जाता है और इसे ठंडे बस्ते में छोड़ दिया गया है। इस उद्योग  को  विशाल खाद्य क्षति, अपव्यय और परिचालन हानि सहित कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। कोल्ड चेन एक विज्ञान है और अस्थायी जुगाड़ के  रूप में इसे नहीं लेना जाना चाहिए। नवीन प्रौद्योगिकी और समाधानों का उपयोग अपनाने  की अब जरुरी आवश्यकता है ”


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अंतरिम बजट एक मजबूत भारत के लिए नयी ऊर्जा , आकांक्षा व् आशा की किरण है" " आर्यन प्रेम राणा -चीफ मेंटर , आर्याना माटास्को

"फ़ूड डीहाईडरेशन डिवाइस कृषि और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र लिए उपयोगी" चंद्रकांत पी पटेल, सीएम्डी आइस मेक

अनमोल इंडिया आईपीओ आज से बीएसई एसएमई पर सब्सक्रिप्शन के लिए खुला